चंडीगढ़ | हरियाणा में हो रही जोरदार बारिश की वजह से कृषि मौसम विज्ञान विभाग ने संभावित मौसम के आधार पर किसानों  को सलाह दी है कि वे धान की नर्सरी लगाना जारी रखें। धान में बकानी रोग से बचाव के लिए धान की रोपाई के 7 दिन पहले कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम/प्रतिवर्ग मीटर की दर से रेत में मिलाकर नर्सरी में एक साथ बिखेरे और इस बात का ध्यान रखें कि नर्सरी में उथला पानी हो। पौध की रोपाई अधिक गहरी न करें।

किसानों से कहा गया है कि वे नरम कपास में निराई-गुड़ाई कर खरपतवार निकालें तथा नमी संचित करें। नरमा कपास में वातावरण में ज्यादा नमी होने से सफेद मक्खी का प्रकोप हो सकता है। अगर सफेद मक्खी दिखाई दे तो मौसम साफ रहने पर ही नीम आधारित एक लीटर निम्बिसीडीन को 250 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रतिएकड़ छिडक़ाव करें।

बाजरा और ग्वार फसलों की बिजाई करते समय बदलते मौसम का ध्यान अवश्य रखें। बारिश की संभावना को देखते हुए किसानों को सलाह दी गई है कि वे लगी हुई सब्जियों तथा फलदार पौधों में सिंचाई रोक लें। वातावरण में ज्यादा नमी होने के कारण सब्जियों की फसलों में रस चूसक कीटों का प्रकोप हो सकता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here