टमाटर के बाद अब बारी प्याज की

0
49
BEST OF THE WEEK

दिल्ली | सब्जी मंडियों में टमाटर और प्याज तो दिखेंगे पर पैसे जेब से थोडे ज्यादा दे होंगे | वजह है प्याज का विदेश में निर्यात | इस साल प्याज की पैदावार तो अच्छी रही पर विदेश में प्याज का निर्यात  अधिक प्रमाण में हुआ | जिसका खामियाजा यहाँ भुगतना पड रहा है |

केन्द्र सरकार के एक शीर्ष अधिकारी का दावा है कि प्याज की कीमतों में जारी उछाल महज एक तत्कालिक मामला है और अगस्त के मध्य में नई फसल आने के बाद कीमतें वापस अपने उचित स्तर पर लौट आएंगी |

देश में प्याज की पैदावार तो अच्छी है, लेकिन इसके एक्सपोर्ट में हो रही बढ़ोतरी की वजह से कीमतों में इजाफा हो रहा है | दूसरी ओर बरसात की वजह से कई मंडियों में सप्लाई प्रभावित हुई है, जो कीमतों को बढ़ा रही है | केन्द्रीय कृषि सचिव शोभना के पटनायक ने कहा कि अगले माह तक घरेलू मांग को पूरा करने के लिए प्याज की पर्याप्त आपूर्ति है तथा सरकार प्याज के थोक और खुदरा बिक्री मूल्य की करीब से निगरानी रख रही है |

वित्त वर्ष 2017-18 के पहले महीने यानी अप्रैल में देश से प्याज जावक में करीब 125 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है | अप्रैल के दौरान देश से कुल 3,20,943 टन प्याज निर्यात  हुआ है, जबकि पिछले साल इस दौरान देश से सिर्फ 1,42,767 टन प्याज निर्यात हो पाया था |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here