किसानों को 50 प्रतिशत अनुदान सहायता

0
30

पंचकूला | अनुसूचित जाति की विशेष पशुधन बीमा योजना के अंतर्गत पशुपालन एंड डेयरी डिपार्टमेंट की ओर से तीन पशुओं की डेयरी, सूअर पालन भेड़-बकरी पालन इकाईयां स्थापित करने के लिए 50 प्रतिशत अनुदान सहायता प्रदान की जा रही है। यह योजना हरियाणा की राज्य सरकार ने जानवरों के लिए 29 जुलाई 2016 को शुरू की थी।

इस पशुधन बीमा योजना के तहत सरकार राज्य के विभिन्न जानवरों के लिए विभिन्न प्रीमियम दर पर पशु प्रजनकों को बीमा कवर प्रदान करती है। पशुपालकों को पांच बड़े पशु तथा 50 छोटो पशुओं तक के बीमा के लिए बीमा प्रिमियम पर अनुदान उपलब्ध करवाया जा रहा है। पशु मा

पशुधन बीमा योजना की विशेषताएं

इस पशुधन बीमा योजना के अंतर्गत, सरकार राज्य में विभिन्न जानवरों के लिए विभिन्न प्रीमियम दरों पर पशु प्रजनकों को बीमा कवर प्रदान करती है।
गायों, भैंसों, बैल, ऊंटों के लिए 100 बीमा रु के रूप में।
भेड़, बकरी और सुअर के लिए 25 रु का बीमा प्रीमियम।
बीमा कवर तीन साल की अवधि के लिए प्रदान करता है
बीमा कम्पनियाँ पशु (मवेशी) की मृत्यु होने पर मुआवजा प्रदान करती है।
यह योजना अनुसूचित जातियों के अंतर्गत आने वाले लोगों के लिए है।

पशुधन बीमा योजना के लिए पात्रता

आवेदक हरियाणा राज्य का निवासी होना चाहिए।
गाय, भैंस, बैल, ऊंट और भेड़, बकरी और सुअर जैसे पशु बीमा कवर के लिए पात्र हैं।
यह योजना केवल उन्हीं लोगों के लिए नि: शुल्क है जो हरियाणा में अनुसूचित जाति के हैं।

पशुधन बीमा योजना के लिए आवेदन कैसे करें

आवेदक को हरियाणा में पशुपालन और डेयरींग विभाग में जाना होगा।
आवेदक को हरियाणा के संबंधित तालुका / जिले के कृषि कार्यालय में जाना होगा।

डीसी गौरी पराशर जोशी ने बताया कि अनुसूचित जाति की विशेष योजना के अंतर्गत डिपार्टमेंट द्वारा तीन पशुओं की डेयरी, सूअर पालन भेड़-बकरी पालन इकाईयां स्थापित करने के लिए 50 प्रतिशत अनुदान सहायता प्रदान की जा रही है। देसी नस्ल की तीन पांच गायों की डेयरी इकाई लगाने वाले पशु पालकों को 50 प्रतिशत अनुदान गायों की खरीद मूल्य पर दिया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here